Pages

Saturday, 17 September 2011

तीन बच्चे और वो औरत

बहुत उदास और 'डिप्रेस' सी रही कुछ दिन. यकीन नही कर पा रही थी कि कोई बिमारी 'मुझे' भी घेर सकती है. यूँ कोई भी इस सच को उसी तरह स्वीकार नही करता जैसे अपने किसी प्रिय की मौत के बारे में सोचना भी नही चाहता.
खुद को ऐसी  स्थिति से हमे निकाल सकता है कोई  तो शायद वो खुद हम  ही है.
जिंदगी ने  क्या क्या बुरा किया इस से ज्यादा क्या क्या अच्छा हुआ वो सोचना शुरू किया और....
कई ऐसी छोटी छोटी बातें याद करनी शुरू कर दी जो मेरे चेहरे पर एक मुस्कराहट बिखेर दे.
और पाया अरे! ऐसे पल ज्यादा गुजारे हैं मैंने.  बस उन्हें याद ही नही किया, पलट कर देखा ही नही उन्हें.
ज़िन्दगी बरसों में जीना शुरू कर दिया था...पलों को भूलती गई थी. मेरी 'उस' स्थिति का कारन यही था.
बताऊँ वो 'पल' जिन्हें याद करके मैं अभी भी मुस्करा रही हूँ.
                                                                १
 अमेरिकन हॉस्पिटल, उदयपुर. एंजियोप्लास्टी के दो तीन दिन बाद डॉक्टर  ने कहा मैं घूमना शुरू करूं.
हॉस्पिटल के उस वार्ड के बाहर ही मैंने घूमना शुरू कर दिया
छोटी बहु डोली ने एक ओर इशारा करते हुए  कहा-'' माँ! देखो वो बच्चे शायद रो रहे हैं ''
हम दोनों  पास गये. देखा. स्ट्रेचर  पर एक महिला अधलेटी अवस्था में थी. एक आदमी और तीन बच्चे उसके पास खड़े थे.
''मम्मी! मैं कौन हूँ? मम्मी ! मैं कौन हूँ.बताओ''- एक बच्ची जो लगभग आठ नौ साल की थी अपनी मम्मी से पूछ रही थी.
मैं कांप उठी. उस एक वाक्य ने पूरी बात बता दी.  जान न पहचान ...पर ....मैंने आगे बढकर तीनों बच्चो को अपनी बाहों में समेट लिया. मैंने महिला के पास जा कर बोला-
''हेलो''
साथ खड़े व्यक्ति ने महिला का सिर पकड़ कर  मेरी ओर घूमा दिया. सपाट भावशून्य चेहरा.एक तरफ से टेढा. तीस बत्तीस की उम्र.
''आप मेरी बात सुन रही हैं तो अपनी अंगुली हिलाइए.'
अंगुली हिली.  उनके पति, तीनो बच्चे, डोली और मैं ख़ुशी से चहक-से गये.
एक सप्ताह पहले  अचानक जब उस महिला की नाक और कान से से खून बहने लगा. ब्रेन की एक नस फट गई थी. मेडिकल जांचों से पता चला उस महिला को ब्रेन - ट्यूमर भी था.  आज उनके मस्तिष्क  का ओपरेशन था. 
''आपको कुछ नही होगा. आप एकदम अच्छी हो कर घर जाएँगी अपने. देखिये आपके बच्चे, आपके पति और.....मैं भी आपका इंतज़ार कर रहे हैं.जल्दी जाइए और जल्दी आइये फटाफट.''- मैंने मुस्करा कर अपने अंगूठे को उपर उठाते हुए  उस महिला को कहा. 
बच्चे अब भी मुझसे लिपटे हुए थे. महिला के चेहरे पर कोई प्रतिक्रिया नही हुई.पर....उसके हाथ का अंगूठा हिला.वो भी अंगूठा उठाना चाहती थी शायद.
बच्चों को एकदम करीब ले जाकर मैंने फिर कहा.-''अपनी पलको को झपकाइये तो जरा. बच्चे समझ जायेंगे कि आप कह रही हैं 'बेटा! मैं अभी आती हूँ' ''
पलके झपकी. उस महिला के पति और दोनों बेटियों की आँखे छलछला आई. बेटा बहुत छोटा था. इन सबसे बेखबर.
'मेडम ! आज पहली बार इसने कुछ रिस्पोंड  किया है' -उस आदमी की आवाज जैसे ....बर्फ पिघली.
 पन्द्रह दिन बाद जब मैं वापस होस्पिटल गई. मैं जानना चाहती थी कि 'वो' अब कैसी है? किन्तु मैंने उनमे से किसी का नाम नही पूछा था. कहाँ से आये थे यह भी नही मालूम.
पर...पता लगा लिया.उस दिन मात्र तीन ब्रेन के ओपरेशन हुए थे.जिसमे दो पुरुष के हुए थे.
डॉक्टर ने बताया कि 'ओपरेशन सफल रहा. धीरे धीरे हालत में सुधार हो रहा है.बहुत जल्दी वो एकदम अच्छी हो कर अपने घर चली जायेंगी.आप चाहे तो उनसे  मिल सकती है'   
मैं नही गई. कल्पनाओं में उस महिला के बच्चे और पति के खिलखिलाते चेहरे देखती हूँ. वे अब उदासी भरे नही दीखते होंगे न? वो भी जरुर मुस्कराती होगी उन्हें देख कर.और...अब अपने अंगूठे को उपर खुद उठा भी लेती होंगी.
मैं एक सुकून महसूस करती हूँ.और मेरे होठो के छोर मेरे कानो को छुए जा रहे हैं . 

29 comments:

  1. 'फटे में कायकूं टाँग अडाती हैं आप ?'
    अच्छी लघु-कथा ,पर सच्ची-मुच्ची की है या काल्पनिक ?

    ReplyDelete
  2. संतोष जी! बहुत स्वार्थी औरत हूँ मैं.फटे में पाँव फसाने से यदि मुझे 'खुशी' मिलती है तो क्या बुरा है जी ?सच्ची घटना है जी.१८ अप्रेल को मेरी एंजियोप्लास्टी अमेरिकन हॉस्पिटल उदयपुर में हुई थी.यह उन्ही दिनों की घटना है.
    आपने पूछा था 'मेरे साथ ही ऐसी घटनाएं क्यों होती है?तो ....सर! ऐसी घटनाये सभी के आस पास होती रहती हैं.... बस ओवर-लुक कर दी जाती हैं अक्सर .

    ReplyDelete
  3. वैसे तो अपनी ख़ुशी के लिए तो हर इन्सान जीता है !
    सच्ची ख़ुशी वो है ! जब कोई किसी के लिए विष पिता है !!

    ReplyDelete
  4. सच्ची-मुच्ची की है

    ReplyDelete
  5. फकीरा का गीत याद आ गया

    ReplyDelete
  6. kash har koi har kisi ka dukh bantana sikh le.to sabhi sukhi ho jayenge.aapne jo kuchh kiya ek pariwar ke liye khushiyon ke beej bo gaya hai.

    ReplyDelete
  7. जादू की झप्पी ने कमाल कर दिया. प्यार मुर्दे में भी जान फूंक देता है, स्नेह के दो बोल घायल की पीड़ा हर लेते हैं.यही एक जज्बा है जो आपको दूसरों से अलग करता है.आपको सेल्यूट करता हूँ.ऐसाच हूँ मैं भी...........हा हा हा हा

    ReplyDelete
  8. दूसरों की खुशी को ही जो अपनी खुशी समझ ले...ऐसी ममतामयी को तो सभी माँ कहने को व्याकुल हो उठेंगे....
    आपका लिखा पढ़ने से बहुत सुकून मिलता है

    ReplyDelete
  9. bhua kitane achchhe kam karoge ? humare liye bhee kuchh chhodo na. ishwar se yahi prarthanaa hai ki wo hume bhee esa dil aur dimag dono de .

    ReplyDelete
  10. बहुत सुंदर कहानी हे ..मन को झिझोड़ गई--मेरी माँ को भी ब्रेन टियुमार था ...आँखे गीली हो गई !

    ReplyDelete
  11. बस इतना ही कह पाउँगा इन्दू जी....कि आँखें नाम हो गयीं.....क्यूंकि मैं खुद भी ऐसाइच हूँ.... बिलकुल एक औरत की तरह.....सच.....!!!

    ReplyDelete
  12. बस इतना ही कह पाउँगा इन्दू जी....कि आँखें नम हो गयीं.....क्यूंकि मैं खुद भी ऐसाइच हूँ....बिलकुल एक औरत की तरह.....सच.....!!!

    ReplyDelete
  13. मार्मिक और प्रेरणा देती .. यदि आप किसी के जीवन में परिवर्तन लाते हैं तो उस से बड़ी कोई बात नहीं ..

    ReplyDelete
  14. @rajiv thepda ji
    प्रिय राजीव
    प्यार
    जब औरतों के मन की कोमलता किसी पुरुष में आ जाती है तो वो सचमुच 'पुरुष' बन जाता है.जैसे पुरुषों की कठोरता औरत में आने पर उसकी स्त्रीत्व की ख़ूबसूरती कम हो जाती है.जियो.और इस 'औरत को जीने दो अपने में '

    ReplyDelete
  15. जानती हैं जब आप कहती हैं -"मैं एक सुकून महसूस करती हूँ.और मेरे होठो के छोर मेरे कानो को छुए जा रहे हैं . " तो मैं खुद को भावम. महसूस करने लगता हूं..पल में दुनिया यूं ही बदल जाती है। संस्मरण मन के करीब लगा।

    ReplyDelete
  16. अगर यह कथा है तो रोचक यदि वास्तविकता है तो धन्य है आप .

    ReplyDelete
  17. @sunil ji
    हाँ मैं धन्य हुई ईश्वर ने मुझे इन पलों का हिस्सा बनने का मौका दिया.वो औरत,उसके बच्चे और...उदास आँखों वाला पति मेरी आँखों में कैद हो गये और मैं उन्हें उनके घर हंस हंस कर बातें करते देखती हूँ अपनी कल्पनाओं में.

    ReplyDelete
  18. ्किसी के जीवन मे दो घूंट ज़िन्दगी की आशा की विश्वास की डालना …………शायद इससे बढकर और कोई संतोषजनक बात और क्या होगी…………इसी मे आत्मिक संतोष मिलता है और यही असलियत मे ज़िन्दगी को जीना है।

    ReplyDelete
  19. jo aapne kiya yehi insaniyat ka taqaza tha............

    ReplyDelete
  20. मेरा सुखों से कोई, अलगाव तो नही .
    बस दुखों से थोडा, ज्यादा लगाव है||


    स्नेह!
    स्वस्थ और खुश रहें !

    ReplyDelete
  21. tum asich rahna:)

    tumhari baaten, tumhare sansmaran...kabhi kabhi dusri duniya pe ghte hue lagte hain...
    ek dum munna bhai ho tum..di:)
    god bless you!!

    ReplyDelete
  22. आपका यह संस्मरण आज 'जनसत्ता' में !
    बधाई :-)

    ReplyDelete
  23. INDU PURI....

    khudako kya samazati hai....

    baatome me phankar hai...

    shabdo me dhar hai...

    khudape bahot gurur hai...

    kya kya experience hai ....

    share karaneki himmat bhi hai...

    hukumat chalana chahati hai....

    chahati kya chalati bhi hai....

    firbhi sabako pyari hai....

    kyu ki inake pass 2 -2 roop nahi hai....

    jaisi hai .,waisa hi bartav hai...

    HUME BHI NAAZ HAI...

    KYU KI ...

    KYU KI....

    INKA NAAM HAMARE FRIEND LIST ME HAI...

    SIRF NAAM SE YE PURI NAHI HAI... YE TO EK PURI INSAAN HAI....

    AAPAKI TARIF KARANE KI GUTSAKHI KI HAI.....

    SACH ME YE SAHI HI HAI...

    ReplyDelete
  24. कल 08/05/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल (विभा रानी श्रीवास्तव जी की प्रस्तुति में) पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  25. bahut sundar marmsparshi aalekh...
    Badhai!

    ReplyDelete
  26. बधाई उनके ठीक होने की ....

    ReplyDelete
  27. आपके बेहतर स्वास्थ्य की कामना करता हूं !

    ReplyDelete
  28. वह खिलखिलाते चेहरे मुझे भी नज़र आ रहें है!

    ReplyDelete